WEB 3.0 क्या है (WHAT IS WEB 3.0 ?)

 

यह topic बहुत ही खास है world me सबसे ज्यादा इंटरनेट यूज करते हैं और आप भी यूज करते हैं डाटा को source और सेफ रखना चाहते हैं Internet की दुनिया में क्या बदलाव हो रहा है Future  में Internet की क्या जरुरत है जी हां  मैं बात कर रही हूं web 3.0 की जो Block chain Technology  में based है और यह आज के trading topic में है  web 3.0 में world wide web  इंटरनेट का 3 वर्जन है अब तक हम लोगों ने वर्ल्ड वाइड वेब  से web 1 .0 और web 2.0 यानी इंटरनेट का फर्स्ट वर्जन और सेकंड वर्जन यूज़ किया है और अब आने वाले time पर यानी future में web 3.0 का use करने वाले हैं इस topic में मैं  discuss करूंगी कि  web 1.0  और web 2.0 कैसे  आया और अब  वेब 3.0 का  क्या benefit है web 3.0 क्या है Block Chain Technology से इसका क्या रिलेशन है Social Media  का new look  कैसा होगा यानी फेसबुक, इंस्टाग्राम, टि्वटर जैसे प्लेटफार्म का new look  कैसा होगा जब web 3.0 में convert होगा

1..WEB 1.0 क्या है?/(What is Web 1.0?) 

 जब world wide web आया उसमें website के थ्रू only read  कर सकते थे किसी भी web site  के  भी content को यानी वेब 1,0 में हम लोग  Images को देख सकते थे और कोई भी information होता था तो उसे हम सिर्फ read  कर सकते थे बस यही था वेब 1.0 और इस तरह के website को हम  statics website  बोलते हैं Statics website per comment नहीं कर सकते थे chat  नहीं कर सकते थे ऑनलाइन पेमेंट भी नहीं कर सकते थे यह वेबसाइट ज्यादातर यूनिवर्सिटी में और कॉलेजी में यूज होते थे

2.WEB 2.0 क्या है?/(What is Web 2.0?)

उसके बाद  web 2.0 आया और यह 2003 के आसपास ही आया  web 2.0 में web site जो dynamic है मतलब आप भी जो भी web site use करते हैं वह सब dynamic web site है इसमें आप live chat, comment और likes कर सकते हैं और video  को post कर सकते हैं किसी तरह का पेमेंट करना है तो आप यह भी कर सकते हैं इसमें आप Face book , Amazon ,Flip kart यूज कर सकते हैं यह तो इंस्टाग्राम भी यूज कर सकते हैं और बहुत सारे site देख सकते हैं वेबसाइट के Information अब हम दो तरह से समझते हैं

2.1 कभी किसी web site मैं आप जाते हैं तो आपसे आप की detail लेते हैं जैसे आपका नाम, Email ID और contact  नंबर ऐसे काफी सारे contact detail  वगैरह है जो आप से ले लेते हैं और फिर आपको Phone call, Email आते हैं क्योंकि यह सारे website हमारी detail को लेकर records बनाती है और record को बनाने के बाद यानी डाटा को भेजती है किसी small कंपनी को और या फिर किसी ग्रुप को और यहां पर हमारे contact  के साथ में misuse ही होता है

2.2 कोई भी कभी भी किसी तरह से कंपनी   data use कर सकता है या फिर कभी  hack कर लिया तो वह भी हमारा Data का misuse कर सकता है तो हमारा डाटा कहीं Safe है भी या नहीं answer है No में था means हां  जब  web 3.0 में आपका data safe है और सिक्योर हो सकता है वह भी वेब 3.0 के सामने ही पॉसिबल है क्योंकि वेब 3.0 इंटरनेट का फ्यूचर है और web 3.0 में आपका data सिक्योर भी है क्योंकि web 3.0  का कांसेप्ट ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर based है

web 3.0 में यह भी बेनिफिट है कि जब भी आप कुछ सर्च करते हैं गूगल पर या किसी किसी अन्य सर्च इंजन पर तो आपको fast result मिलेगा कभी-कभी सर्वर डाउन होने की वजह से रिजल्ट में देरी होती है web 3.0 ब्लॉकचेन में यह भी टेंशन दूर कर दी है आपको डाटा फास्टेस्ट भी मिलेगा

 

 

3.WEB 3.O क्या है?/(What is Web 3.0?)

  इन दिनों में आप लोगों ने बहुत सुना होगा वेब 3.0 और ऐसा बोला जाता है यह इंटरनेट का बाप है सबसे बड़ा question जो आप लोगों के मन में आता है  कि जो इंटरनेट हम लोग use कर रहे हैं web 2.0 उसमें ऐसा क्या कमी है जो हमें वेब 3.0 की need पड़ी सबसे बड़ी कमी यहां पर आती है कि सिर्फ एक या दो बहुत बड़ी बड़ी कंपनी है जो  internet का इस्तेमाल कर रही है जैसे Google 87 % search  को control  करता है और जो face book है जो आप के time का नेता बन चुका है अब यहां पर प्रॉब्लम है यह है कि किसने हक दिया इतनी बड़ी बड़ी कंपनी को ऐसे Internet को control करने का आप लोगों को पता है यह जो data है Ads के लिए use करा जाता है यहां पर कभी-कभी Ads convenient होते हैं पर privacy सबसे बड़ी problem बन जाती है एक interesting बात बताती हूं जो recently हुई है Apple ने एक नया फीचर बनाया है जो IO S 14.5   जहां user खुद से चुन सकता है कि कोई ऐप उसको track  कर सकता है या फिर नहीं इस चीज से फेसबुक को बहुत problem हुई की  फेसबुक को एप्पल की वजह से 10 बिलियन डॉलर का नुकसान 2022 में हो सकता है जो only privacy  की वजह से है अब Finally  time  आ चुका है कि हम user जो सारी power अपने हाथ में ले ले और यही है WEB 3.0

5. सबसे पहले बात करते हैं 5 important part की

3.1.Decentralization (डिसेंट्रलाइजेशन)

कि इसका सिंपल words में मतलब यह है कि जितनी भी पावर है यहां पर आज के टाइम में बड़ी-बड़ी  कंपनियों के पास है यह सब में बाट दो .

3.2. Open Source(ओपन सोर्स)

जैसे कि Android Open source है कोई भी उसको आगे modify कर सकता है ऐसे हमारी मांग है कि वेब 3 .0 भी open source कर दिया जाए कोई भी आए और उसे अपने तरीके से Modify कर सके.

3.3.Block chain (ब्लॉक चैन)

जो कि बहुत ज्यादा source Technology है  इसके अंदर Data store कर सकते हैं और  जैसे कि Name suggest  करता है कि यहां पर जो है अलग-अलग Block me  आप का data store करा जाएगा और वह chain  की फॉर्म मैं होगा और यह बहुत ज्यादा source type में से एक है और इसको hack करना बहुत मुश्किल होता है

3.4 .Metaverse  (मेटावर्स)

लगातार, वास्तविक समय में प्रदान की गई 3 डी दुनिया और simulations का एक expansive नेटवर्क है जो पहचान, वस्तुओं, इतिहास, payment और अधिकारों की निरंतरता का समर्थन करता है, और एक प्रभावी रूप से असीमित संख्या में users द्वारा individual रूप से अनुभव किया जा सकता है, प्रत्येक एक व्यक्ति के साथ उपस्थिति की भावना I

3.5. Crypto coin (क्रिप्टो कॉइन)

आपको पता है कि यह वेब 3.0 आई कहां से है आपने क्रिप्टोकरंसी तो जरूर सुना होगा एक क्रिप्टो करेंसी है एथेरियम अंकित को फाउंडर है गैविन बोर्ड  है क्रिप्टोक्यूरेंसी, जिसे कभी-कभी क्रिप्टो-मुद्रा या क्रिप्टो कहा जाता है, मुद्रा का कोई भी रूप है जो digitally या virtually मौजूद है और transaction को सुरक्षित करने के लिए क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करता है। Transaction रिकॉर्ड करने और नई इकाइयां जारी करने के लिए decentralized system का उपयोग करने के बजाय, क्रिप्टोकरेंसी के पास केंद्रीय issue करने या transactions करने वाला authority नहीं है।

 

4. यहां वेब 3.0 के कुछ लाभ दिए गए हैं (Benefits of web 3.0)

  • Data Ownership. In Web 2.0, tech giants control and exploit user- generated data.
  • Fewer Intermediaries.
  • Efficient searching and information linking.
  • Personalized Web Surfing Experience.
  • Uninterrupted services.
  • Better Marketing.

5. कुछ उदहारण  web 3.0 के (Some examples of web 3.0)  –

5.1.Bitcoin-

मूल क्रिप्टोक्यूरेंसी लगभग दस वर्षों से अधिक समय से है, और प्रोटोकॉल स्वयं decentralized है, हालांकि इसका पूरा ecosystem   नहीं है।

5.2. Diaspora(डायस्पोरा) –

Non profit, decentralized व Social Network

5.3. Steemit (स्टीमिट) –

ब्लॉकचैन-आधारित ब्लॉगिंग और सोशल प्लेटफॉर्म

5.4. Augur(ऑगुर) –

  Decentralization exchange trading market

5.5.  Open Sea (ओपनसी) –

एनएफटी खरीदने और बेचने के लिए एक मार्केटप्लेस,

5.6 .Unis wap –

एक और विकेन्द्रीकृत सोशल नेटवर्क, जो एथेरियम ब्लॉकचैन पर बनाया गया है। क्रिप्टोक्यूरेंसी एक्सचेंज

5.7. Ever ledger (एवरलेगर)

ब्लॉकचैन-आधारित आपूर्ति श्रृंखला, उद्गम और authenticity platform

 

  1. आज हमने Web 3.0 के बारे में बहुत कुछ सीखा

आज के टाइम पर जब हम इंटरनेट चलाते हैं तुम्हारे साथ कितनी बार होता है ना कि किसी भी वेब साइट पर विजिट करें तो हर बार सारी इनफार्मेशन दोबारा दोबारा  करनी पड़ती है हर बार हमें अपने अकाउंट क्रिएट करना पड़ता है वेब 3.0 यही प्रॉब्लम solve करने में आ रहा है मुझे आशा है कि मैंने  आप को Web 3.0 की पूरी जानकारी  हिंदी में दी है अगर आप के मन में इस  article को लेकर कोई doubts हो तो कमेंट करके जरूर बताये अगर आप को post अच्छा लगा हो और कुछ सीखने को मिला हो तो please इस  पोस्ट को फेसबुक, Twitter पर जरूर share करे.

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

7 Desi Indian Search Engines TOP VLOGGERS IN INDIA- BY SUBSCRIBERS 4G vs 5G- कितना फर्क?