बिटकॉइन क्या है? | BitCoin CryptoCurrency Explained in Hindi

बिटकॉइन (BITCOIN) को समझने के लिए पहले ये समझेंगे तो समझना बहुत आसान होगा..

 

बहुत-बहुत पुराने जमाने में लेन-देन Barter System के द्वारा होता था यानि चीज लेने के बदले चीज दी जाती थी।

 

फिर बहुत पुराना ज़माना आया। इसमें लेन-देन सोने-चांदी के सिक्कों के जरिए किये जाता था।

 

फिर पुराना ज़माना आया और चीजें थोड़ी-सी Advanced हुईं… अब लेने-देन एल्युमिनियम के सिक्कों और कागज के नोटों के द्वारा होने लगा।

 

इसके बाद आया मॉडर्न ज़माना, जिसमें transactions के लिए ऑनलाइन वॉलेट्स और UPI जेसे साधनों का इस्तेमाल किया जाने लगा।

 

अब आपमें से कई लोगों को लगेगा कि हम मॉडर्न जमाने में जी रहे हैं… लेकिन ऐसा नहीं है!

 

फिलहाल जिस जमाने में हम जी रहे हैं वह सिर्फ मॉडर्न नहीं बल्कि ULTRA PRO MAX MODERN TECHNOLOGY का जमाना है और यहाँ पर लेन-देन Cryptographic Technology के जरिए अंजाम दिए जा रहे हैं, जिसे CryptoCurrency कहा जा रहा है।

 

बिटकॉइन भी एक तरह की क्रिप्टोकरन्सी है जो नए जमाने के लेन-देन की ”रीढ़ की हड्डी” है। चलिए मिलते हैं Bitcoin से, थोड़ा और करीब से..



वही पढ़ें जो आप पढ़ना चाहते हैं..

1. बिटकॉइन क्या है? (What is BitCoin)

बिटकॉइन एक वर्चुअल करन्सी है जो Blockchain Technology पर बेस्ड है और जिस पर किसी भी सरकार का कोई नियंत्रण नहीं है।

पहला, बिटकॉइन को हम Virtual Currency इसलिए कह रहे हैं क्योंकि इसे हम सिक्कों और नोटों के जैसे हाथ में नहीं रख सकते हैं।

दूसरा हम कह रहे हैं कि यह ब्लॉकचेन तकनीक पर काम करता है…इसका क्या मतलब है? इसका मतलब यह है कि यह जिस तकनीक पर काम करता है वह blocks के रूप में डाटा को स्टोर करती है… यह अपने आप में एक बड़ा विषय है इसलिए इसके के बारे में ज्यादा जानने के लिए यहाँ जाएँ

तीसरा हम कह रहे हैं कि किसी भी सरकार का (ना हिंदुस्तान की, ना पाकिस्तान की और ना ही अमरीका की) इस आभाषी मुद्रा (Virtual Currency) पर किसी भी तरह का कोई कंट्रोल नहीं है। यानि बिटकॉइन अपने-आप में ही एक स्वतंत्र अथॉरिटी है।

 

बिटकॉइन नाम क्यों? (Why is BitCoin named so?)

कंप्युटर की भाषा में Bit का मतलब होता है- बहुत छोटी स्टोरेज यूनिट… और Coin का अर्थ हम सब जानते ही हैं कि Money से होता है।

तो इस तरह से हम समझ सकते हैं कि बिटकॉइन ऐसी मुद्रा है जिसे कंप्युटर में बहुत कम स्टॉरिज में भी स्टोर किया जा सकता है। इसलिए बिटकॉइन को ऐसा नाम दिया गया है।



2. बिटकॉइन कैसे काम करती है? (How Does BitCoin Work)

बिटकॉइन एक बहुत अधिक आधुनिक तकनीक पर काम करती है, जिसे ”ब्लॉकचेन (BlockChain)” कहा जाता है।

ब्लॉकचेन तकनीक Cryptography पर आधारित है इसलिए इसे बहुत ज्यादा सुरक्षित माना जाता है। यह भी एक वजह है जिससे बिटकॉइन इतना पॉपुलर हुआ है।

ब्लॉकचेन तकनीक में बिटकॉइन से जुड़ी जानकारी रखने के लिए बहुत सारे blocks बने होते हैं जिनमें बिटकॉइन के बारे में बहुत सारी जानकारी (जैसे- पहले ये बिटकॉइन किसके पास था, कहा ये बना था, कितने तारिक को ये बिटकॉइन कहाँ ट्रैन्स्फर हुआ) स्टोर होती है।

pictorial representation of blockchain

ये ब्लॉक्स बहुत बड़ी संख्या में होते हैं, और एक-दूसरे से आपस में जुड़े होते हैं। यही वजह है कि बिटकॉइन जिस टेक्नॉलजी पर काम करता है उसे BLOCKCHAIN कहा जाता है।

जब भी बिटकॉइन का कोई ट्रैन्सैक्शन होता है तो उसके लिए automatically एक नया ब्लॉक create हो जाता है और उस ट्रैन्सैक्शन से जुड़ी सारी जरूरी जानकारियाँ उस ब्लॉक में स्टोर हो जाती है। एक बिटकॉइन के इस तरह के हजारों ट्रैन्सैक्शन हो सकते हैं जिनकी वजह से इसमें blocks की संख्या बहुत अधिक हो जाती है और ब्लॉक्स की एक चेन बन जाती है यही वजह है कि बिटकॉइन जिस टेक्नॉलजी पर काम करता है उसे ब्लॉकचेन कहा जाता है।

 

नॉन फ़न्जीबल टोकन्स (NFTs) एवं अन्य क्रीपटोंकरेंसीज़ भी ब्लॉकचेन तकनीक पर ही काम करती हैं।

 

3. बिटकॉइन का इतिहास (History of BitCoin)

विकिपिडिया के अनुसार, बिटकॉइन को Shatoshi Nakamoto नाम के एक व्यक्ति या फिर एक ग्रुप द्वारा 3 जनवरी 2009 को लॉन्च किया गया था हालांकि यह अभी तक कोई नहीं जानता कि ये व्यक्ति या ये लोग आखिर थे कौन।

shatoshi nakamoto statue representation logo
Shatoshi Nakamoto’s representation

यह अपनी तरह का पहली मुद्रा है जो ब्लॉकचेन तकनीक पर बेस्ड है और क्रीपटोंग्राफी पर आधारित है।

बिटकॉइन की सबसे खास बात यह है कि इसकी सप्लाई लिमिटेड है यानि दुनिया में कभी-भी 21 Million से ज्यादा बिटकॉइन को नहीं बनाया जा सकता है यह इसके बनाने वाले ग्रुप Shatoshi Nakamoto ने पहले से ही तय किया हुआ है।

बिटकॉइन की लोकप्रियता में जबरदस्त उछाल 2018 के बाद आया जब इसकी कीमत 50 Lakh पार कर गई। हालांकि वह ज्यादा दिन टिक नहीं पाई।

 

 आज का रेट क्या है?

बिटकॉइन के आज (26 feb 2022) का रेट 29,40,000 रुपए और 39,000 USD के बराबर है।



4. बिटकॉइन माइनिंग क्या है? (What is BitCoin Mining)

रुपए या डॉलर या किसी भी अन्य सरकारी मुद्रा का जब भी हम ऑनलाइन लेन-देन करते हैं तो वह बैंक या फिर किसी अन्य अथॉरिटी द्वारा नियंत्रित होता है। यानि आपका बैंक देख सकता है कि आपने कहाँ, कब और किसको कितना पैसा भेजा है या लिया है।

हालांकि बिटकॉइन के केस में बैंक या कोई अन्य अथॉरिटी इसे कंट्रोल नहीं करती है।

बिटकॉइन के ट्रैन्सैक्शन्स को verify करने के लिए बहुत सारे complex mathematical problems सॉल्व करने होते हैं जिनके लिए बहुत high-power computers की जरूरत पड़ती है और बहुत बड़े amount में बिजली की consumption होती है।

a miner mining bitcoins with pickaxe

बहुत सारे लोग होते हैं जो bitcoins के transactions को verify करने का काम करते हैं उनके इस काम को BitCoin Mining कहा जाता है और ऐसे लोगों को BitCoin Miners कहा जाता है।

बिटकॉइन माइनर्स को माइनिंग करने के बदले में बिटकॉइन्स मिलते हैं यह उनके द्वारा किये गए काम का एक तरह से फल होता है।

 

बिटकॉइन की संख्या (Total Number of BitCoins)

आपको बता दें कि रुपए को भारत सरकार जितना चाहे उतनी मात्रा में छाप सकती है। लेकिन बिटकॉइन के साथ ऐसा नहीं है।

बिटकॉइन एक लिमिटेड संख्या में ही मौजूद है जो कि 21 Million यानि दो करोड़ दस लाख है। इनमें से 18.5 मिलियन बिटकॉइन मार्केट में circulation मे हैं और बाकी बचे 2.5 मिलियन बिटकॉइन्स को मार्केट में लाने के लिए mining की जा रही है।

आजकल बहुत बड़ी मात्रा में लोग बिटकॉइन माइनिंग करके पैसा कमा रहे हैं। ऐसा आप भी कर सकते हैं हालांकि इसके लिए आपको बहुत सारी electricity और high-power computer systems की जरूरत पड़ने वाली है।



5. ऑनलाइन बिटकॉइन माइनिंग कैसे करें? (How to do BitCoin Mining Online)

बिटकॉइन को आप चाहें तो अपने PC द्वारा भी घर पर माइन कर सकते हैं हालांकि इस बात में शक है कि इससे significant amount of income हो पाएगी या नहीं-

I. हार्डवेयर चुनें (Mining Hardware)-

आपके कंप्युटर के हार्डवेयर (जिसे माइनिंग की भाषा में Rig बोलते हैं) पर आप माइनिंग क्षमता बहुत हद तक निर्भर करती है इसलिए अपने हार्डवेयर को शानदार रखें। ग्राफिक कार्ड और RAM सबसे अधिक महत्व रखते हैं।

II. माइनिंग सॉफ्टवेयर का चुनाव करें (Mining Software)-

माइनिंग करने के लिए हार्डवेयर का चुनाव करने के बाद बारी आती है सॉफ्टवेयर चुनने की, जिसका काम है आपको बिटकॉइन ब्लॉकचेन से कनेक्ट करना। इसमें Nice Hash Miner आपकी मदद कर सकता है।

III. माइनिंग पूल की खोज करना (Finding Mining Pool)-

एक अकेले आदमी के लिए बिटकॉइन का significant amount माइन करना मुश्किल होता है इसलिए बहुत सारे individuals मिलकर एक-दूसरे के वर्क को कम्बाइन करते हैं और फिर प्रॉफ़िट प्राप्त करते हैं। यह सब संभव हो पाता है Mining Pool की वजह से। इसलिए इसका चुनाव भी अच्छे से करें।

IV. बिटकॉइन माइनिंग शुरू करें (Start Bitcoin Mining)-

अब आप अपने हार्डवेयर को पावर सप्लाइ से कनेक्ट करके सॉफ्टवेयर की मदद ब्लॉकचेन से जोड़े और शुरू करें माइनिंग।

6. बिटकॉइन कैसे खरीदें (How to buy BitCoins)

बिटकॉइन खरीदने का प्रोसेस काफी आसान है। इसके लिए आपको यह स्टेप्स फॉलो करने हैं-

1. डिजिटल बिटकॉइन अकाउंट बनाना (Open Digital BitCoin Account)-

जिस तरह बैंक में लेन-देन के लिए bank account की जरूरत होती है ठीक उसी तरह बिटकॉइन के लेन-देन के लिए Digital Account की जरूरत होती है। किसी app (जैसे wazirx की मदद से इसे खुलवा दें)

2. 2FA कोड प्राप्त करें-

जैसे ही आप अकाउंट बनाते हैं तो आपको एक 2FA नाम का कोड मिलता है। यह कोड आपको ध्यान रखना है क्योंकि यही आपका authentication code और password है।

3. बिटकॉइन खरीदना शुरू करें-

इस तरह से आप अब बिटकॉइन की खरीद शुरू कर सकते हैं।

 

7. बिटकॉइन के फायदे (Benefits of BitCoin)

बिटकॉइन के बहुत सारे फ़ायदों में से बहुत थोड़े-से मुख्य फायदे इस तरह हैं-

I. बिटकॉइन ब्लॉकचेन तकनीक पर काम करता है और यह बेहद-बेहद-बेहद सुरक्षित है।
II. ब्लॉकचेन को कोई अथॉरिटी नियंत्रित नहीं करती है।
III. बिटकॉइन एवं अन्य क्रीपटोंकरेंसीज़ में क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड जैसी चीजों की तुलना में कम transaction fees लगता है।
IV. बिटकॉइन ग्लोबल मनी है इसको आप दुनिया के किसी भी हिस्से से, किसी भी अन्य हिस्से में ले-दे सकते हैं।

 

8. बिटकॉइन के नुकसान (Disadvantages of BitCoin)

बढ़िया से बढ़िया चीज के भी कुछ drawbacks होते हैं, Bitcoin के भी हैं, जो हैं-

 

I. बैंक में आपके द्वारा गलती से गलत अकाउंट में पैसे चले गए आप बैंक से request करके समस्या सुलझा सकते हैं। बिटकॉइन क्रिप्टो आपको कोई दूसरा मौका नहीं देती है।

II. बिटकॉइन के जरिए इलीगल ट्रैन्सैक्शन्स बहुत सारे होते हैं, क्योंकि इसे नियंत्रित नहीं किया जा सकता है।




9. भारत में बिटकॉइन का भविष्य (Future of BitCoin in India)

wooden hammer of court striking on the table
is bitcoin legal in india?

भारत में बिटकॉइन का भविष्य सुनहरा है। सरकार ने Finance Budget 2022 में क्रीपटोंकरन्सी से होने वाली कमायाई पर 30% का टैक्स लगाने की घोषणा की है।

यह एक तरह से भारत सरकार की बिटकॉइन और अन्य क्रिप्टोमुद्राओं को हरी झंडी है।

 

 

Navin Rangar

I write here.

2,940 thoughts on “बिटकॉइन क्या है? | BitCoin CryptoCurrency Explained in Hindi