Top Ad

ब्लॉग SEO में KEYWORD DENSITY, PROMINENCE और PROXIMITY क्या है IN HINDI

मैं जानता हूँ, आप एक वेबसाइट के मालिक हैं? तभी आप इस पेज पर उतरे हैं।


आप जानते होंगे कि एक वेबसाइट को लोकप्रिय बनाने  में सबसे बड़ा योगदान SEO का होता है।


एसईओ के दो मुख्य हिस्से होते हैं- पहला, ON-PAGE और दूसरा OFF-PAGE.. और एक तीसरा भी होता है जिसका इस आर्टिकल से कोई लेना-देना नहीं है ;p



ON-PAGE एसईओ का सबसे जरूरी हिस्सा है- KEYWORDS... इसलिए जब तक आपको keywords को समझना नहीं आएगा तबतक आप ऑन पेज एसईओ को नहीं समझ सकते।


keywords written on papers




कीवर्डस से जुड़ी भी कई terminogies हैं जिनमें से सबसे जरूरी तीन को हम इस आर्टिकल में cover करेंगे।



इससे पहले कि हम आगे बढ़ें, जरूरी है कि आपको keywords से जुड़ी बेसिक चीजों के बारे में पता हो। अगर आप नए हैं तो इन पोस्टों को जरूर go through करें-





कीवर्ड घनत्व, प्राक्सिमिटी और प्रोमिनेंस [ KEYWORD DENSITY, PROXIMITY BASICS IN HINDI]





1. कीवर्ड घनत्व क्या होता है ? (What is Keyword Density)


कीवर्ड यानि वो शब्द जिसे कोई व्यक्ति गूगल में सर्च करता है। या फिर वो टॉपिक जिसपे आप अपने ब्लॉग पर कोई पोस्ट लिख रहे हैं।


मान लीजिए मैं 'MAHATMA GANDHI' पर हिन्दी में एक पोस्ट लिख रहा हूँ तो 'महात्मा गांधी' मेरा कीवर्ड हो गया।


मान लीजिए आप अपनी पोस्ट में 100 शब्द लिखते हैं जिसमें से दो बार 'MAHATMA GANDHI' शब्द आपने लिखा होता है। तो आपके पोस्ट की keyword density 2 percent हो जाती है।


अपने पोस्ट की कीवर्ड डेन्सिटी निकालने के लिए आपको TOTAL NUMBER OF WORDS IN POST से NUMBER OF TIMES KEYWORD WRITTEN को भाग दे देना है और जो आता है उसको 100 से गुना कर देना है।



उदाहरण के लिए, मेरी इस पोस्ट में 900 वर्डस हैं और मैंने अपने मेन KEYWORD को 18 बार इन्क्लूड किया है तो इसकी कीवर्ड डेन्सिटी इस तरह से होगी।



(18/900)*100 = 2% KEYWORD DENSITY



अब आपने अपनी पोस्ट में अपने main keyword  को कितनी बार include किया है इस बात से भी आपकी वेबसाइट की गूगल रैंकिंग्स पर फरक पड़ता है।


कीवर्ड डेन्सिटी ना तो बहुत ज्यादा हो और ना ही कम हो। कीवर्ड डेन्सिटी 2 से 3 प्रतिशत के बीच हो तो सबसे अच्छा है। 



NOTE- अगर आपके webpage की कीवर्ड डेन्सिटी 3 प्रतिशत से अधिक होती है तो गूगल आपकी रैंक को कम हो सकती है जिससे कि आपके ब्लॉग पे कम लोग आएंगे। इसलिए बहुत ज्यादा बार अपने keyword को मेन्शन ना करें। keyword proximity का इस्तेमाल करें जिसका जिक्र हमने आगे किया है। 


अभी आप कीवर्ड डेन्सिटी समझ गए होंगे। अब आगे जानते हैं एक नए शब्द कीवर्ड proximity को।




2. कीवर्ड प्राक्सिमिटी क्या होता है? (WHAT IS KEYWORD PROXIMITY)


आपने गूगल में जो टाइप किया है उसे समझने के लिए गूगल आपके शब्दों के बीच का कनेक्शन find करता है।


जैसे कि अगर आपने लिखा- 'WHAT IS BLOG AND HOW TO CREATE.' तो इसमें आपने दो चीजों को मेन्शन किया है। पहला - what is blog को और दूसरा- how to create.



अब हमने दूसरे पार्ट में सिर्फ how to create लिखा है। हमने how to create a blog नहीं लिखा है क्योंकि ब्लॉग हम already पहले पार्ट में लिख चुके हैं।



इस तरह से सिर्फ how to create लिखने भर से भी गूगल समझ जाता है कि ब्लॉग create करने की बात हो रही है। और हमें बार-बार अपना कीवर्ड नहीं repeat करना पड़ेगा और आप keyword density को overtake करने से बच जाएंगे।


PROXIMITY का मतलब होता है- नजदीकी। तो आप जिन शब्दों का use कर रहे हैं उनमें कितनी नजदीकी है, वो कितनी करीबी से एक-दूसरे से जुड़े हैं, यह बहुत जरूरी है।


इसलिए अपने ब्लॉग में main कीवर्ड के साथ-साथ उससे जुड़े अन्य शब्दों का भी प्रयोग करें।




3. कीवर्ड प्रोमिनेंस क्या होती है (WHAT IS KEYWORD PROMINENCE)-


कीवर्ड को कितनी बार लिखा गया है, इससे कई अधिक जरूरी है कि उसका उपयोग किस स्थान पर किया गया है। अगर कीवर्ड को कुछ खास जगहों पर use किया जाता है तो उस कीवर्ड की ताकत बढ़ जाती है।


इन जगहों पर कीवर्ड का जरूर use करना चाहिए-

1. Title 
2. Heading 
3. Subheadings
4. Within First and Last 100 words of the post.
5. Bold, italic and underlined content.



'जब हम सही कीवर्डस को सही स्थान पर use करते हैं तो इसे हम keyword prominence कहते हैं।'





ℹ️  AUTHORS' ANGLE: 


कीवर्ड डेन्सिटी, proximity और prominence पर एक ब्लॉगर को जरूर ध्यान देना चाहिए। यह आपकी साइट को गूगल में सही कीवर्डस के लिए सही स्थान पर rank करने में हेल्प करता है।


तो दोस्तों यही था "keyword density, prominence and proximity in hindi" पर हमारी आज की पोस्ट। यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें comment के माध्यम से जरूर बताएं और आपका कोई सवाल हो तो उसे भी जरूर पूछें। हमसे facebook पर जुड़ें ताकि आपको नई post की update मिलती रहे। 




📚 READ MORE POSTS: 


• ब्लॉगिंग क्या है और इससे पैसे कैसे कमाते हैं?

   

Post a Comment

0 Comments