Top Ad

QR CODE- जानिए क्या, कब, क्यों, कैसे.. WHAT IS QR CODE IN HINDI

नोटेबंदी के बाद से आपने काफी दुकानों पर Google pay और Paytm के QR कोड को देखा होगा। जो दिखने में काले और सफ़ेद रंग का चौकोर बॉक्स होता है। 

smartphone over qr codes on airport
Scanning QR with smartphone


आज हम इसी QR को जानेगे की QR क्या है, कैसे काम करता है और अंत मे आपको ख़ुद का QR code बनाना भी सिखायेंगे।



1. क्यू आर कोड क्या है? [What is QR Code]


QR code एक तरह का 2 dimensional मैट्रिक्स बारकोड होता है। यह दिखने में चौकोर लेबल की तरह होता है। जिसमें एक सफ़ेद बैकग्राउंड के ऊपर काले रंग के चौकोर पैटर्न बने होते हैं। किसी प्रकार के डाटा या इन्फॉर्मेशन को इन्हीं पैटर्नों के रूप में स्टोर किया जाता है।


QR code को पढ़ने औऱ इस्तेमाल करने के लिए इमेजिंग डिवाइसेस जैसे स्मार्टफोन कैमरा और QR scanners का इस्तेमाल किया जाता है। हम जैसे ही QR स्कैन करते हैं तुरंत ही हमें QR में स्टोर किया हुआ डाटा मिल जाता है।


QR कोड में URL, Text, contact details के साथ साथ और भी कई तरह के डाटा को स्टोर किया जाता है। इसीलिये आज के समय मे बहुत से  कामो में QR codes का इस्तेमाल किया जाता है।


QR code का फुलफॉर्म [QR CODE FULL FORM]


QR code का फुलफॉर्म “Quick Response Code" होता है।


2. QR code को कब और किसने बनाया? [When and Who invented QR Code]



QR code को 1994 में Masahiro Hara ने बनाया था जो कि जापानी कंपनी Denso Wave के एम्प्लॉयी थे। इसे जापानी ऑटोमोबाइल इंडस्ट्रीज के लिए बनाया गया था। तब इन QR codes का इस्तेमाल automobile parts को ट्रैक करने के लिए किया जाता था। 

person who invented qr code



लेकिन इसके Fast decoding औऱ डेटा ट्रैकिंग के कारण आज यह काफ़ी पॉपुलर हो गया। इसीलिए आज ऑनलाइन पेमेंट से लेकर ऑनलाइन प्रोडक्ट्स और कई तरह के ऑनलाइन कामो में इसका इस्तेमाल देखने को मिलता है।


3. QR Code कैसे काम करता है? [How does QR Code works]


QR code के काम करने के तरीके को समझने के लिए कुछ पॉइंट्स को समझते हैं।


QR code में किसी भी तरह की जानकारी को स्टोर किया जाता है। सबसे पहले डाटा को QR code में encode किया जाता है।


QR code में किसी Locator (URL), Identifier या Tracker का डाटा स्टोर रहता है।


डेटा को एनकोड करने के लिए कुछ स्टैंडर्ड एनकोडिंग modes जैसे Alphanumeric, Numeric, Byte/Binary का इस्तेमाल किया जाता है। डेटा को QR में एनकोड करने पर QR code को एक unique पैटर्न मिल जाता है। जिसे स्कैनर से स्कैन करके encoded डाटा को पढ़ा जा सकता है। 


डाटा QR में  एनकोड होने के बाद हम QR code को किसी स्मार्टफोन कैमरा या QR स्कैनर से भी स्कैन करके पढ़ सकते हैं। QR स्कैनर encoded डाटा को वापस decode करके आपको पुनः वही जानकारी दे देता है। 


आज कल के स्मार्टफ़ोन में भी इसके लिए अलग से scanner app होता है। इसका इस्तेमाल QR code के डाटा को डिकोड करके पढ़ने के लिए किया जाता हैं। चाहे वह डाटा Locator, Identifier या Tracker के रूप में हो।



  क्यू आर कोड कितने तरह के होते है? [Types of QR Code]


QR code को दो भागों में बांटा जा सकता है।


Static QR Code - 


इसका इस्तेमाल किसी सार्वजनिक सूचना को ज्यादा लोगों तक पहुंचाने के लिए किया जाता है। जैसे QR codes को टीवी Ad, पोस्टर्स, बैनर्स, न्यूज़ पेपर्स और मैगज़ीन्स आदि में advertise किया जाता है। इसका बनाने वाला केवल इतनी ही जानकारी प्राप्त कर सकता है की QR code को कितनी बार स्कैन किया गया या किस किस डिवाइस से स्कैन किया गया।


Dynamic QR Code -


ऐसे QR codes लाइव होते हैं जो कि समय समय पर बदल दिए जाते है। इससे QR कोड बनाने वाला QR में स्टोर जानकारी को समय समय पर ट्रैक कर सकता है। इससे वह स्कैन करने वाले का नाम, ईमेल आईडी, QR कितनी बार स्कैन किया गया की जानकारी ले सकता है। 


5. QR code कैसे scan करें?


QR code स्कैन करना बहुत आसान है। आप इसे अपने स्मार्टफोन के मदद से भी QR code स्कैन करके उसमे स्टोर किये हुए डेटा को पढ़ और इस्तेमाल कर सकते हैं। 


QR code स्कैन करने के लिए आपको बस कुछ आसान स्टेप्स फॉलो करने होंगे।


स्टेप-1. सबसे पहले अपने स्मार्टफोन के App menu में जायें। वहाँ पहले से ही इंस्टॉल किया हुआ Scanner app होगा। अगर नहीं है तो आप कोई भी QR scanner app गूगल प्लेस्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं।


स्टेप-2. अब आपको Scanner app को ओपन करना है। ओपन करते ही तुरंत ही आपका कैमरा ON हो जाएगा। 


आपको कैमरे के पॉइंट को QR Code की तरफ करना है। जिसके बाद साफ़ view मिलते ही आपके फ़ोन का स्कैनर QR code स्कैन कर लेगा।


phone scanning the qr code



स्टेप-3. QR code स्कैन करते ही QR code में स्टोर किया हुआ डाटा आपके सामने खुल जायेगा।


6. QR Code के इस्तेमाल [USES OF QR CODE]


QR का इस्तेमाल आज कई तरह के क्षेत्रों में किया जाता है। क्योंकि QR स्कैन के ज़रिए किसी जानकारी को तुरंत एक्सेस कर सकते हैं। 


आज इसका इस्तेमाल बिज़नेस, एजुकेशन, मार्केटिंग, टेक्नोलॉजी ,विज्ञापन और सूचना के field में किया जाता है। जैसे की-


scanning qr with smartphone



इसका इस्तेमाल आजकल ऑनलाइन पेमेंट्स में ख़ूब हो रहा है। क्युकी पैसे भेजने के लिए अब बैंक डिटेल्स डालने की ज़रूरत नहीं है। बस QR code स्कैन करना है फिर सीधे ही आप पेमेंट पेज से कनेक्ट हो जायँगे। Google Pay, Paytm, Phone pe और Bhim UPI  जैसे apps में QR codes का इस्तेमाल किया जाता है।


आप इसके ज़रिये सोशल प्रोफाइल्स, घर या ऑफिस का पता या किसी जगह की लोकेशन QR के ज़रिए शेयर कर सकते हैं।


किसी वेबसाइट की link भी आप QR के ज़रिए भेज सकते हैं। आप केवल QR Scan करके भी वेबसाइट पर जा सकते हैं।


इसका इस्तेमाल प्रोडक्ट एंड पार्सल ट्रैकिंग में भी किया जाता है। प्रोडक्ट्स और डिलीवरी पार्सल के ऊपर QR code लगा हुआ होता है जिससे इसे ट्रैक करने में आसानी होती है।


इसका इस्तेमाल सोशल मीडिया लॉगिन करने औऱ Wifi नेटवर्क जॉइन करने में भी किया जाता है।


कई देशों में QR Code का इस्तेमाल वर्चुअल स्टोर में भी किया जाता है। 
बड़े बड़े रेस्टोरेंट में भी खाना आर्डर करने के लिए भी QR का इस्तेमाल किया जाता है।


इसका इस्तेमाल कम्पनीज के विज्ञापन के लिए भी किया जाता है। न्यूज़ पेपर, मैगज़ीन, बैनर  पर उस कंपनी या प्रोडक्ट के QR Code प्रिंट किये जाते हैं जिसे आप केवल Scan करके जानकारी ले सकते हैं।



7. ख़ुद का QR Code कैसे बनाये? [How To Create Your Own QR Code in Hindi]


आपने अब तक कई जगह QR codes का इस्तेमाल किया होगा। आप चाहे तो इंटरनेट पर उपलब्ध कुछ फ़्री टूल्स के ज़रिए ख़ुद का QR code भी बना सकते हैं।


इनकी मदद से आप अपनी वेबसाइट, ब्लॉग ,यूट्यूब चैनल, प्रोडक्ट, प्रोग्राम, विजिटिंग कार्ड जैसी चीज़ों के लिए QR Code बना  सकते हैं।


नीचे दिए हुए कुछ पॉपुलर वेबसाइट पर जाकर उनके फ़्री QR generator टूल से QR code बना पाएगे। जैसे की-


1. www.goqr.me
2. www.forqrcode.com
3. www.qr-code-generator.com
4. www.free-qr-code.net


इन टूल्स से Static और Dynamic दोनों तरह के QR code बन सकते हैं।




ℹ️  AUTHORS' ANGLE: 

यह लेख INDIANMARKETER.IN से उमेर जी ने भेजा है। ऑनलाइन मार्केटिंग से जुड़ी जानकारी के लिए आप इनका ब्लॉग जरूर विसिट करें।

तो दोस्तों यही था "ब्लॉग का नाम रखने/Naming Blog In Hindi" पर हमारी आज की पोस्ट। यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें comment के माध्यम से जरूर बताएं और आपका कोई सवाल हो तो उसे भी जरूर पूछें। हमसे facebook पर जुड़ें ताकि आपको नई post की update मिलती रहे। 




📚 READ MORE POSTS: 


• ब्लॉगिंग क्या है और इससे पैसे कैसे कमाते हैं?

   

Post a Comment

0 Comments