Top Ad

ब्लॉगिंग सीखनी है तो ये गलतियाँ जरूर करें! | BLOGGING MISTAKES YOU MUST COMMIT

इंटरनेट पर ऐसे बहुत सारे आर्टिकल्स मौजूद हैं जो बताते हैं कि आपको ब्लॉगिंग के दौरान कौन-कौन-सी मिसटेक्स नहीं करनी चाहिए?


लेकिन शायद ही कोई ऐसा आर्टिकल है जो बताता है कि आपको ब्लॉगिंग में कौन-कौन-सी मिसटेक्स करनी चाहिए और क्यूँ करनी चाहिए?

guy typing on laptop pc



मुझे पता है आपको ये थोड़ा अजीब लग रहा होगा लेकिन ये सच है कि जब तक हम गलतियाँ नहीं करेंगे तब तक हम कोई भी चीज अच्छी तरह नहीं सीख सकते। इसलिए गलतियाँ करना बेहद जरूरी है। पर्सनली, मैंने भी ब्लॉगिंग की शुरुआत में बहुत सारी गलतियाँ की हैं और आज जब मैं मुड़कर पीछे देखता हूँ तो एहसास होता है कि यही वो गलतियाँ हैं जिन्होंने मुझे काफी कुछ सिखाया है।


तो ऐसी कौन-कौन-सी गलतियाँ हैं जो ब्लॉगिंग सीखने के दौरान आपको जरूरी करनी चाहिए ताकि आप एक बेहतर ब्लॉगर बन पाएँ चलिए जानते हैं-



ये ब्लॉगिंग गलतियाँ जरूर करें | BLOGGING MISTAKES YOU MUST COMMIT ONCE IN HINDI




1). बुरा लिखना अच्छा है (TERRIBLE WRITING IS OKAY):


ज्यादातर लोग जब ब्लॉगिंग शुरू करते हैं तो वे बहुत अच्छे राइटर नहीं होते और एक अच्छा ब्लॉगर बनने के लिए यह बहुत जरूरी है कि आप एक अच्छे लेखक हों।

a formal dress wearing man writing with hand on paper



इसलिए जब हम ब्लॉगिंग शुरू करते हैं तो शुरुआत्त में काफी खराब लिखते हैं, जो कि natural है और होना भी चाहिए। लेकिन खराब लिखने के बावजूद भी हमारी उम्मीद होती है कि लोग हमारा ब्लॉग पढ़ें और उसपे views, comments, shares आए।


शुरुआत में ऐसी किसी भी प्रकार की उम्मीद न रखें। अपने writing skill  पर ध्यान दीजिए, उसे अच्छा-बेहतर-और-बेस्ट बनाने का प्रयास करें। अपने पुराने लेख पढिए और सोचिए आप उन्हें किस प्रकार बेहतर बना सकते थे। यकीन मानिए ये technique काम करती है मैंने खुद इसे यूज करा है।


इसलिए शुरुआत में बुरा लिखना okay है लेकिन यह जरूरी है कि हम समय के साथ उसमें सुधार करें। तभी हम एक बेहतर ब्लॉगर बन सकते हैं।






2). टेक्निकल दिक्कतें होना ओके है (IT'S OKAY TO OCCUR TECHNICAL PROBLEMS):


बहुत सारे लोग सिर्फ इसलिए अच्छे से ब्लॉगिंग नहीं कर पाते क्योंकि उन्हें टेक्निकल चीजों का ज्ञान नहीं होता!


जब मैंने ब्लॉगिंग शुरू की थी तब मैं स्कूल में था। उस वक्त मुझे Search Console, Sitemaps और HTML, CSS जैसी languages का कोई खास knowledge नहीं था। तो इसकी वजह से मुझे ब्लॉग को manage करने में थोड़ी-बहुत दिक्कतें होती थी। बहुत बार technical errors की वजह से मेरे ब्लॉग को काफी नुकसान भी हुआ लेकिन फिर मैंने लगातार इन चीजों के बारे में वेब पर रिसर्च की और इन्हें अच्छे से सीखा और आज मैं खुश हूँ कि मैं ब्लॉगिंग से रिलेटेड इन चीजों को अच्छी तरह मैनेज कर सकता हूँ।


इसलिए अगर आपको ब्लॉगिंग में कोई technical problem हो रही है तो उसके बारे में गूगल और यूट्यूब पर रिसर्च कीजिए उसे खुद से solve करने का प्रयास कीजिए। इस तरह आप तकनीकी रूप से बेहतर बन पाएंगे।






3). ब्लॉगिंग सीखने में समय लगना ओके है (BLOGGING TAKES TIME):


बहुत सारे लोग मेरसे संपर्क करते हैं और कहते हैं कि "प्लीज सर मुझे ब्लॉगिंग सीखा दीजिए।" 


मैं उन सब लोगों से बस एक ही बात कहता हूँ कि हर स्किल को सीखने में टाइम लगता है और ब्लॉगिंग भी समय लेती है।


आप अगर हर दिन 5 घंटे भी अपने ब्लॉग को देते हैं तो भी आपको ब्लॉगिंग के बारे में ठीक-ठाक नालिज और इक्स्पीरीअन्स होने में कम-से-कम 3-से-6-महीने का समय तो लग ही जाता है।


इसलिए जल्दबाजी न करें। अगर आप जल्दी-से पैसे कमाना चाहते हैं तो to be honest ब्लॉगिंग आपके लिए नहीं है। आप Content Writing और Youtube जैसी चीजें ट्राइ कर सकते हैं।


REMEMBER- 

BLOGGING TAKES TIME!



4). जानकारी होना और इक्स्पीरीअन्स होना दोनों अलग-अलग चीजें हैं (KNOWLEDGE AND EXPERIENCE ARE TWO DIFFERENT THINGS):


बहुत सारे लोगों को ब्लॉगिंग के बारे में बहुत कुछ पता होता है लेकिन फिर भी उन्हें ब्लॉगिंग करनी नहीं आती, क्यों? क्योंकि उन्होंने बस ब्लॉगिंग के बारे में पढ़ा या सुना होता है उन्होंने actual में कभी ब्लॉगिंग की नहीं होती है।


इसलिए ब्लॉगिंग के बारे में सिर्फ जानकारी ही हासिल न करें बल्कि उसे अप्लाइ भी करें ताकि आपको ब्लॉगिंग के बारे में अनुभव भी मिले और यही अनुभव आपकी असली जमा पूंजी है!!


ब्लॉगिंग के बारे में जानकारी लेना Okay है लेकिन ब्लॉगिंग सीखने के लिए यह जरूरी है कि हम पढ़ी या सुनी हुई जानकारी को अपने ब्लॉग पर लागू भी करें।


उदाहरण के तौर पर, आपने कहीं पढ़ा कि detailed post लिखने से पोस्ट गूगल में ज्यादा ऊपर रैंक होती है। तो इस बात को बस यूही accept न कर लें। खुद पता लगाये कि क्या ऐसा सच में होता है या फिर ये सिर्फ एक myth है।


इसका पता लगाने के लिए आप कुछ लंबी पोस्टे लिख सकते हैं और कुछ शॉर्ट। और इस तरह कुछ महीनों बाद अगर लंबी पोस्टें अच्छी पोसीशन पर रैंक करती हैं तो इस बात को स्वीकारना आसान हो जाता है क्योंकि आप इसे साबित कर चुके हैं!!





5). हद से ज्यादा SEO करना भी ओके है (OVER SEO IS OKAY):

ब्लॉगिंग की शुरुआत में लगभग हर कोई ओवर-SEO करता है। गूगल में रैंक करने के लिए बहुत सारे keywords इन्क्लूड करता है। ब्लॉग को हर जगह शेयर करता है। स्पैम कमेंट्स के थ्रू backlinks बनाने की कोशिश करता है और गलत तरीकों का इस्तेमाल करके अपने ब्लॉग के views बढ़ाने की कोशिश करता है। 

seo written in big yellow letters



इस तरह जब हर तरह की स्पैम चीजें अपनाकर newbie blogger को कोई अच्छा रिजल्ट नहीं मिलता है तब उसे समझ में आता है कि ओवर-SEO करने का कोई फायदा नहीं है। और यही वो realisation है जो हर सफल ब्लॉगर में होता है।


आपने देखा होगा कि बड़े ब्लॉगर keywords का बहुत कम use करते हैं; वे बहुत ज्यादा SEO भी नहीं करते हैं; लेकिन फिर भी उनका ब्लॉग टॉप पर rank करता है। इसी तरह आप भी कर सकते हैं हालांकि शुरुआत में यह सब थोड़ा मुश्किल होता है लेकिन जैसे-जैसे आपको ब्लॉगिंग का अनुभव होता रहेगा आपको ये चीजें अपने आप समझ आने लगेंगी।


इसलिए Over-SEO करना भी जरूरी है क्योंकि इससे हमें SEO की उन टेक्नीक्स का पता चलता है जो काम नहीं करती! और ऐसा पता चलना बेहद जरूरी है।






6). पैसे के बारे में बहुत ज्यादा सोचना ओके है (ITS OKAY TO BE HIGHLY MONEY ORIENTED):


बहुत सारे लोग जब ब्लॉगिंग का नाम सुनते हैं तो उनके दिमाग में बस एक चीज आती है और वो है- "पैसा!"


In fact, मेरे पास जितने भी ब्लॉगिंग से जुड़े सवाल आते हैं उनमें से लगभग 50% directly या फिर indirect way में पैसे से जुड़े होते हैं।


ब्लॉगिंग की शुरुआत में पैसे के बारे में बहुत विचार आते हैं। खासकर Adsense Approve होने के बाद फर्स्ट पेमेंट आने तक तो ज्यादातर लोग बस अपना अड़सेंस ही चेक करते रहते हैं।


लेकिन पैसे को लेकर बहुत ज्यादा चिंता आपकी ब्लॉगिंग स्किल को बुरी तरह से प्रभावित कर सकती है। पर्सनली शुरुआत में कई बार मुझे मेरी ब्लॉगिंग इनकम के बारे में चिंता होती थी जिससे मैं ब्लॉग पर सही से ध्यान नहीं दे पता था और इससे मेरी राइटिंग स्किल भी खराब हो रही थी। साथ ही साथ चिंता करने के बावजूद भी इनकम में कोई खास increment आ नहीं रहा था।


तो इस तरह मुझे एहसास हुआ कि पैसे की चिंता करने से पैसा नहीं आएगा; ब्लॉग पर ध्यान देने से आएगा। और फिर मैंने ब्लॉग पर लगातार ध्यान देना शुरू कर दिया और इससे मेरी ब्लॉग की परफॉरमेंस में काफी अच्छा सुधार आया :)


इसलिए ब्लॉगिंग शुरुआत में पैसे की चिंता करना ओके है क्योंकि यह चिंता एक sensible इंसान को सफलता का रास्ता दिखा सकती है।



+ कुछ छोटी-छोटी ब्लॉगिंग गलतियाँ जो आपको करनी चाहिए-


* अपने आप डोमेन और होस्टिंग खरीदना और उनका सेटअप करना- इसमें कई गलतियाँ होंगी लेकिन आपको कई चीजें सीखने को भी मिलेंगी।


* कोडिंग में गलतियाँ करना- वेबसाइट में अक्सर हमें HTML, CSS और JS Codes की जरूरत पड़ती रहती हैं जिनसे non-tech-savvy लोगों को काफी दिक्कत होती हैं और ये दिक्कतें होना जरूरी हैं क्योंकि ये आपको मजबूर करती हैं कि आप कोडिंग का बेसिक नालिज रखें।


* गूगल एनालिटिक्स, सर्च कॉनसोल को मैनेज करने में गलतियाँ होंगी और यकीन मानिए इन्ही गलतियों से आप इन टूल्स का इस्तेमाल करना सीख पाएंगे।








ℹ️  AUTHORS' ANGLE: 


ये आर्टिकल आपमें से कई लोगों को थोड़ा odd जरूर लगा होगा लेकिन अगर आप थोड़ी गहराई से सोचें तो इसमें बताई गई बातें पूरी तरह से सच हैं।


आपको इंटरनेट पर कई आर्टिकल्स मिल जाएंगे जो 30 मिनट में आपको ब्लॉगिंग सिखाने का दावा करते हैं लेकिन सच्चाई क्या है ये आप अच्छी तरह से जानते हैं। इसलिए एक अच्छा ब्लॉगर बनने के लिए जरूरी हैं कि आप ये गलतियाँ जरूर करें।


अगर आपको लगता है कि कुछ और चीजें हैं जो इस पोस्ट में जोड़ी जानी चाहिए या फिर कोई ऐसी चीज है जो हटाई जानी चाहिए तो हमें कमेन्ट बॉक्स में जरूर बताएं।


तो दोस्तों यही था "ब्लॉगिंग मिस्टेक्स (Blogging Mistakes)" पर हमारी आज की पोस्ट। यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें comment के माध्यम से जरूर बताएं और आपका कोई सवाल हो तो उसे भी जरूर पूछें। हमसे facebook पर जुड़ें ताकि आपको नई post की update मिलती रहे। 




📚 READ MORE POSTS: 


• ब्लॉगिंग क्या है और इससे पैसे कैसे कमाते हैं?

   

Post a Comment

0 Comments