Top Ad

ब्लॉगिंग में ये गलतियाँ कभी ना करें! | BLOGGING MISTAKES NOT TO COMMIT

पिछले आर्टिकल में हमने ब्लॉगिंग की उन गलतियों का जिक्र किया था जो एक ब्लॉगर को जरूर करनी चाहिए ताकि वह अच्छे से ब्लॉगिंग सीख सके।


हर गलती हमें कुछ न कुछ जरूर सिखाती है। हालांकी कुछ गलतियाँ ऐसी होती हैं जिन्हें हम सुधार सकते हैं (इन गलतियों के बारे में हमने पिछली पोस्ट में बात की थी) जबकि कुछ गलतियाँ ऐसी होती हैं जिनके लिए हम सिर्फ पछतावा ही कर सकते हैं उन्हें सुधार कर पाना हमारे बस में नहीं होता!

MISTAKES NOT TO COMMIT



आज की इस पोस्ट में हम कुछ ऐसी ही ब्लॉगिंग मिसटेक्स के बारे में बात करने जा रहे हैं जिनसे आपको बचना चाहिए। पेश हैं ऐसी ही कुछ बड़ी गलतियाँ-



ब्लॉगिंग में कौन-कौन-सी गलतियाँ नहीं करनी चाहिए? | BLOGGING MISTAKES EVERY NEWBIE BLOGGER MUST AVOID IN HINDI



1). गलत नाम का चुनाव करना (NAMING THE BLOG WRONGLY):


बहुत सारे लोग ब्लॉग बनाने से पहले नाम नहीं सोचते हैं... वे सीधे ब्लॉग बिल्डर वेबसाइट पर जाते हैं और जब वहाँ पर ब्लॉग का नाम रखने का विकल्प आता है तब नाम सोचने लग जाता है। मैंने भी कुछ इसी तरह किया था खुशकिस्मती से मुझे सही नाम मिल गया था ;)


लेकिन आप ऐसा बिल्कुल न करें।


ब्लॉग बनाने से पहले कुछ दिन उसके नाम और URL के बारे में रिसर्च कर लें। कन्फर्म कर लें कि आपको अपने ब्लॉग पर mainly कौन-कौन-से टोपिक्स पर लिखना है। इस तरह आपको ब्लॉग को हैन्डल करने में आसानी होगी।






2). यूआरएल से जुड़ी गलतियाँ (URL MISTAKES):


जिस समय ज्यादातर लोग ब्लॉगिंग शुरु करते हैं उस समय उन्हें टेक्निकल चीजों के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती हैं।


उन्हें सही Url Structure के बारे में जानकारी नहीं होती। उन्हें अच्छी तरह पता नहीं होता कि किस तरह के Url से गूगल में अच्छे स्थान पर रैंक करा जा सकता है। 


इसलिए यह जरूरी है कि आप ब्लॉग बनाने से पहले सही URL Structure के बारे में अच्छी तरह रिसर्च कर लें ताकि आपको बाद में SEO से जुड़ी किसी भी प्रकार की दिक्कत न हो।


एक छोटी-सी टिप है कि आप अपने ब्लॉग के URLs में, अगर हो सके तो, dates को अवॉइड कीजिए।


उदाहरण के लिए, myblog.com/02/20/what-is-this.html के बजाय अपने ब्लॉग का यूआरएल myblog.com/what-is-this रखना SEO के पर्स्पेक्टिव से ज्यादा बेहतर रहेगा।


3). बार-बार URL न बदलें (Don't Change URLs Frequently):


बहुत सारे लोग होते हैं जो नया ब्लॉग बनाने के बाद उसका URL बार-बार बदलते रहते हैं। उन्हें लगता है कि इससे कुछ खास फरक नहीं पड़ेगा लेकिन ऐसा नहीं है। 


बार-बार ब्लॉग या फिर ब्लॉग पोस्ट का URL बदलते रहने से ब्लॉग के SEO पर बहुत ज्यादा नेगटिव असर पड़ता है। इसे कुछ यूं समझिए...


अगर आप अपने ब्लॉग को एक नया URL देते हैं तो जो इज्जत (authority) आपने गूगल की नज़रों में कमाई है वो सब अपने-आप ही खत्म हो जाती है और आपको नए यूआरएल के लिए फिर से अथॉरिटी अर्न करनी पड़ती है। 


इसलिए ब्लॉग बनाने से पहले ब्लॉग के लिए एक अच्छा-सा नाम और URL पहले से ही सोच कर रखें इससे आपका ब्लॉग बेहतर बन पाएगा। 




4). शुरुआत में बहुत ज्यादा कंटेन्ट मत लिखिए (DON'T PUBLISH TOO MUCH CONTENT):


writing-hand


मुझे पता है आपमें से बहुत सारे लोगों के ये बात थोड़ी सी opposite लग रही होगी लेकिन ये पूरी तरह सच है।


लेकिन कैसे? चलिए जानते हैं-


पहली वजह- इंटरनेट की दुनिया में आज 1 अरब से ज्यादा ब्लॉग्स हैं। यानि हर 7 व्यक्तियों पर 1 ब्लॉग । यह आंकड़ा काफी बड़ा है। इससे पता चलता है कि इंटरनेट पर आज कंटेन्ट की कोई कमी नहीं है। इंटरनेट पर आज कमी है तो बस अच्छे कंटेन्ट की। इसलिए ज्यादा कंटेन्ट लिखने पर ध्यान मत दीजिए। कम ही कंटेन्ट लिखिए लेकिन जो भी आप लिखें उसे बहुत बेहतरीन ढंग से लिखने की कोशिश कीजिए।


व्यक्तिगत तौर पर मुझे कई बार आर्टिकल्स लिखने में तीन-चार दिन का वक्त लग जाता है यानि करीब 10 से 12 घंटे!! आर्टिकल लिखने से पहले आप उसके बारे में इंटरनेट पर अच्छी तरह रिसर्च कर लीजिए। अब सोचिए कि आप इसे किस तरह लिखें कि यह 5वीं क्लास में पढ़ने वाले बच्चे को भी समझ आ जाए। इस तरह आप बेहतर कंटेन्ट लिख पाएंगे।


दूसरी वजह- ज्यादातर लोग शुरुआत में बहुत बेकार लिखते हैं। उनका राइटिंग स्किल और ON PAGE SEO बहुत ही खराब होता है। अब जब वे बहुत सारा कंटेन्ट लिख लेते हैं तो उन्हें आगे चलकर बहुत दिक्कत होती है क्योंकि उन्हें आगे चलकर शुरुआत में लिखी हुई पोस्टों को edit करना पड़ता है और उनमें सुधार करना पड़ता है। इसलिए शुरुआत में हफ्ते में 2 ही पोस्टें लिखें लेकिन उन्हें अपना बेस्ट दें।


कई लोग मानते हैं कि ब्लॉग को लगातार अपडेट करने से गूगल उसे ज्यादा वैल्यू देता है। मैं अपने अब तक अनुभव के आधार पर कहूँगा कि साल 2020 के हिसाब से ये बात सही नहीं है। आज के हिसाब से ये बस एक myth है हालांकि 5-10 साल पहले तक ये बात काफी हद तक सही थी। लेकिन अब स्थिति बदल चुकी है। 






5). स्पैम न करें (DON'T SPAM!):


शुरुआत में ज्यादातर ब्लॉगर्स पर backlinks बनाने का भूत सवार होता है। उन्हें लगता है कि अगर उन्होंने backlinks बना लिए तो गूगल उनकी पोस्ट को सीधे टॉप पे रैंक कर दिया। ऐसा नहीं होता है मेरे भाई! ब्लॉगिंग में हर चीज में टाइम लगता है।


नूबी ब्लॉगर्स दूसरे-बड़े ब्लॉग्स में कमेंट्स करके उनमें अपना लिंक डाल देते हैं। उन्हें लगता है इससे उन्हें backlink मिल रहा है और उनके ब्लॉग की अथॉरिटी बढ़ रही है। ऐसा न करें। यह काम करता है लेकिन तभी जब आप naturally comment कर रहे हैं।


इससे अच्छा तो यह है कि आप दूसरे ब्लॉग्स पर Guest Post करें और इस तरीके से बैकलिंक्स बनाएँ। यह तरीका ज्यादा कारगर है।


6). ऑडियंस बनाने पर न ध्यान देना (FOCUS ON CONVERSIONS):


शुरुआत में लोग अपने ब्लॉग का लिंक दोस्तों को शेयर करते हैं और उन्हें बोलते हैं कि "भाई मेरा ब्लॉग देख ले प्लीज.. view करले बस।"
 

उन्हें लगता है कि view करना ही सबकुछ है... और views के ही पैसे मिलते हैं। अगर आपको भी ऐसा लगता है तो मैं आपको बता दूँ कि ये ब्लॉगिंग है Youtube हैं... यहाँ ब्लॉग को पढ़ना होता है देखना नहीं!!


इसलिए सिर्फ views बढ़ाने पर ध्यान न दें लोगों को अपने ब्लॉग पर टिकाने पर भी ध्यान दें।


कोशिश करें कि आप रीडर्स को Email से subscribe करने का ऑप्शन दें, Bell Subscription भी दें और साथ ही साथ उन्हें Facebook या फिर WhatsApp ग्रुप से भी जुडने को बोलें जिससे आपकी एक रेगुलर ऑडियंस बन सके और आपके ब्लॉग को लोग रोजाना के बैसिस पर रीड करने लग जाएँ।


TIP- लोगों को बस जॉइन करवाने पर ध्यान न दें बल्कि उन्हें वैल्यू दें और उनकी सच में मदद करें जिससे वे बार-बार आपके ब्लॉग पर आते रहें। इसके अलावा उनसे ये भी पूछें कि वे क्या चाहते हैं कि हमारे ब्लॉग पर अगली पोस्ट किस विषय पर प्रकाशित हो। इस तरह से आप एक अच्छे ब्लॉगर बन सकते हैं।






7). इन छोटी-छोटी गलतियों से भी बचें-

  • फ़ेसबुक पेज पर लाइक बढ़ाने पर बहुत ज्यादा ध्यान देना- फ़ेसबुक पेज का अब कोई बहुत ज्यादा फायदा नहीं है क्योंकि उससे बहुत कम लोग हमारी वेबसाइट पर आते हैं... इससे बेहतर है कि आप Facebook या WhatsApp Group बनाएँ। 







ℹ️  AUTHORS' ANGLE: 


किसी भी नए काम में गलतियाँ होना लाजिमी हैं और गलतियाँ ही वो चीज हैं जो हमें वो काम सिखाती हैं। इसलिए गलतियाँ करें। लेकिन कुछ गलतियाँ हैं जो हमें बहुत गहरा नुकसान कर सकती हैं इनसे बचना ही बेहतर है। इस आर्टिकल में हमने ब्लॉगिंग से जुड़ी कुछ ऐसी ही गलतियों को डिस्कस करा है।



तो दोस्तों यही था "शुरुआती ब्लॉगिंग गलतियाँInitial Blogging Misktakes In Hindi" पर हमारी आज की पोस्ट। यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें comment के माध्यम से जरूर बताएं और आपका कोई सवाल हो तो उसे भी जरूर पूछें। हमसे facebook पर जुड़ें ताकि आपको नई post की update मिलती रहे। 




📚 READ MORE POSTS: 


• ब्लॉगिंग क्या है और इससे पैसे कैसे कमाते हैं?

   

Post a Comment

0 Comments