कैसे जगाएं बात-बात पर सवाल करने की इच्छा

•  एक जिज्ञासु इंसान कैसे बनें?

 ( How to become a Curious Person in Hindi)

मस्कार दोस्तों,  
 स्वागत है आपका sochokuchnaya.blogspot.com में...


दोस्तों, आपने कई लोगो को देखा होगा जो बात-बात पे question पूछते हैं; Curious होते हैं और कई बार किसी बात को deeply जानने के चक्कर में सामने वाले का दिमाग चकरा देते हैं। 😇.. दुनिया में मौजूद अगर ऐसे लोगों की list बनाई जाए तो fortunately मेरा नाम भी उसमें शामिल होगा।


इस तरह के कुछ लोग हमें अपने school-college, office या आस-पड़ोस में भी मिल जाते हैं। ये लोग किसी specific चीज़ के प्रति जिज्ञासु होते हैं। कुछ लोग अपनी study या business के लिए curious होते हैं जबकि कुछ सिर्फ gossip करने के लिए!  Curiousity इंसान के nature पे depend करती है। ये negative और positive दोनो type की होती है। 

० Positively curious होने के कई सारे फायदे होते हैं, जिनमें से कुछ major benifites हैं (Benifits of being Curious): 


• अगर आपके अंदर जिज्ञासा है तो आप कई तरह की जानकारियां पा लेते हो, जिससे आप एक ज्ञानी और जागरूक इंसान बन जाते हो।

•  समाज सकारात्मक रूप से जिज्ञासु व्यक्तियों की इज़्ज़त करता है।

•  जिज्ञासा होने पर आप उसे जल्दी से जल्दी खत्म करने के लिए question पूछते हो जिससे आपकी confusions & doubts clear हो जाते हैं और आपका self- confidence भी बढ़ जाता है।

किसी ने ठीक ही कहा है:
जिज्ञासा ज्ञान को लाती है।

Curiousity brings the knowledge. 


 कई लोग खुद में किसी खास काम के प्रति curiousity create करना चाहते हैं। पर क्या सभी ऐसा कर पाते हैं? सीधा- सा जवाब है -   नहीं.

 कई लोग खुद को curious दिखाने की कोशिश करते हैं पर असल में वो उतने curious होते नहीं है हैं जितना वो खुद को show करते हैं। इस कारण, उन्हें फायदे की जगह नुकसान हो जाता है।


आज की post में हम बात करेंगे, Curiousity increase करने के 7 effective तरीकों के; जिन्हें अगर आप sincerely follow करेंगे तो surly आपकी curiousity बढ़ जाएगी. लेकिन इससे पहले एक जरूरी बात:  अगर आप इन तरीकों को और ज्यादा effective बनाना चाहते हैं तो, मैं आपको advice दूंगा कि आप एक pen & paper लें और topicwise इस article में जितने भी important points हैं उन्हें note कीजिए; उन्हें revise कीजिए ताकि वो आपको याद रह सकें। साथ ही इस article को धीरे-धीरे पढ़ें ऐसा करने से आप carefully पढ़ पाएंगे और एक साथ कई article न पढ़ें। चलिए, तो अब जानते हैं उन तरीकों को जिनसे आप बन सकते हैं एक जिज्ञासु व्यक्ति -नहीं.

 कई लोग खुद को curious दिखाने की कोशिश करते हैं पर असल में वो उतने curious होते नहीं है हैं जितना वो खुद को show करते हैं। इस कारण, उन्हें फायदे की जगह नुकसान हो जाता है।


आज की post में हम बात करेंगे, Curiousity increase करने के 7 effective तरीकों के; जिन्हें अगर आप sincerely follow करेंगे तो surly आपकी curiousity बढ़ जाएगी. लेकिन इससे पहले एक जरूरी बात:  अगर आप इन तरीकों को और ज्यादा effective बनाना चाहते हैं तो, मैं आपको advice दूंगा कि आप एक pen & paper लें और topicwise इस article में जितने भी important points हैं उन्हें note कीजिए; उन्हें revise कीजिए ताकि वो आपको याद रह सकें। साथ ही इस article को धीरे-धीरे पढ़ें ऐसा करने से आप carefully पढ़ पाएंगे और एक साथ कई article न पढ़ें। चलिए, तो अब जानते हैं उन तरीकों को जिनसे आप बन सकते हैं एक जिज्ञासु व्यक्ति -


1)• ध्यान से सुनें/पढ़ें (Listen & Read Carefully): 


सामने वाले व्यक्ति की बात ध्यान से सुनें। अगर interest नहीं भी आ रहा हो तो उसकी बातों में कोई ना कोई ऐसा point ढूँढ़िये जो interesting हो। याद रखिये carefully सुनना और समझना curiousity create करने के लिए बहुत जरूरी है। यही बात पढ़ते समय भी खुद पर लागू करें- ध्यान से पढ़ें और उसमें interest पैदा करें।



सुनते पढ़ते समय इन बातों का रखें ध्यान:


• उस बात को मन में imagine करें।
•  मन को एकाग्र (focused) रखें; बेकार में यहां- वहां न भटकाएं।
• मन-मस्तिष्क और आँख-कान को वक्ता पर focused रखें और उससे eye contact बनाने का प्रयास करें।

• Read Recommended: एक बार पढ़ी हुई चीज को ज़िन्दगी भर याद रखने का कातिलाना तरीका

2). मन ही मन बातों का विश्लेषण करें (Analyse things): 


किसी बात को carefully सुन-पढ़ लेने के बाद बारी आती है उन्हें analyse करने की.. सुनते time हमें एकदम से कई सारी चीज़े सुननी होती हैं पर उन्हें mind में set करने के लिए हमें analyse करना पड़ता है..और ये सब होता है धीरे-धीरे revise करने से।

० Analysis करते समय ध्यान देने योग्य बातें-

 • बेकार की चीजों के बारे में ना सोचें। उन्हें दिमाग से निकाल दें।

•  analysis करते समय बातों को उलट-पलट कर देखें.. हो सकता है कोई point निकल जाये।

• imagine करते समय हाथों और दिमाग का तालमेल बैठाएं।


3)• खुद से प्रश्न करें (Question yourself):  


analysis के दौरान, जब आप चीज़ों को imagine करते हैं तो खुद से question करें, कि: क्या ऐसा हो सकता है? या फिर ऐसा क्यो होता है? etc.. इनमें से कुछ questions के answer तो आपका दिमाग दे देता है लेकिन कई नहीं दे पाता है... और यही चीजें आपके लिए doubts बन जाती हैं।

एक chinese कहावत कुछ इस तरह है- 
एक प्रश्न पूछने वाला व्यक्ति 5 मिनट के लिए बेवकूफ माना जा सकता है; लेकिन प्रश्न न पूछने वाला व्यक्ति जिंदगी  भर के लिए बेवकूफ हो जाता है

 याद रखिये: "प्रश्न जिज्ञासा का माध्यम हैं; जब तक आप प्रश्न नहीं करेंगे तब तक जिज्ञासु नहीं कहलायेंगे।"

4). Doubts & confusions को दूर करने का प्रयास करें (Try to remove Doubts & Confusions):  

बीच-बीच में जब भी time मिले तो अपने छोटे-छोटे doubts को दूर करें..अगर आप किसी बड़े programme में हैं और किसी बड़े hall में बैठे हैं तो last में होने वाले doubt clearing session में अपनी queries रखिये।

० Query करते समय रखें इन बातों का खयाल:

• Question पूछने से पहले उन्हें लिख लें ताकि वो आपके mind में clear हो सकें।

•  Question एक ही बार अपनी seat पर खड़ा होकर पूछें बार-बार नहीं।

• Question करतें time confidently बोलें और झिझकें नहीं.

>>अपने छोटे-छोटे doubts को बड़ी-बड़ी confusions न बनने दें; सवाल करें।


Curiousity बढ़ाने का यह एक अच्छा और interesting तरीका है. Motivational stories & quotes पढ़ें (internet पर available हैं).. अगर आपको यह सब पढ़ना पसन्द नहीं है तो आप motivational videos देख सकते हैं (एक साथ कई videos ना देखें..एक video देखने के बाद उसका analysis करें और फिर दूसरी video देखें) अच्छा होगा, अगर आप अपने field से related biographies भी पढ़ें..इनसे आपको नए Ideas मिल सकते हैं। 🔔

 

📓






Post a Comment

0 Comments